ads

क्या शेरशाह से सिद्धार्थ मल्होत्रा के एक्टिंग करियर को मिलेगी उड़ान?

Mumbai: भारत की दोस्ती दरकिनार करते हुये पाकिस्तान ने कारगिल युद्ध को अंजाम दिया जिसका भारत के वीर जवानों ने मुंहतोड़ जबाब दिया।

एकबार फिर कारगिल की कहानी को बड़े पर्दे पर लाया जा रहा है। जल्द ही परमवीर चक्र विजेता(मरणोपरांत) कैप्टन बिक्रम बत्रा के सर्वोच्च बलिदान पर  बनाई गई फिल्म शेरशाह को सिनेमाघरों में रिलीज किया जायेगा।

क्या शेरशाह से सिद्धार्थ मल्होत्रा के एक्टिंग करियर को मिलेगी उड़ान?


अभिनेता सिद्धार्थ मल्होत्रा ने अपने सोशल मीडिया एकाउंट से फिल्म शेरशाह का पोस्टर शेयर करते हुये लिखा है " कैप्टन विक्रम बत्रा की अनसुनी कहानी जानने के लिये तैयार हो जाओ, फिल्म 2 जुलाई को रिलीज हो रही है" 

पिछली कुछ फिल्मों से सिद्धार्थ मल्होत्रा की एक्टिंग दर्शकों को सिनेमाघरों तक लाने में नाकाम रही है। अच्छी कहानी को तरसते सिद्धार्थ के लिये यह फिल्म trump card साबित होती है या नहीं ,यह  2 जुलाई को पता चल ही जायेगा।

इस फिल्म का निर्माण करन जौहर ने किया है। कहा जा रहा है कि यह फिल्म करन जौहर का एक बड़ा प्रोजेक्ट है।

सिद्धार्थ के लिये यह फिल्म trump card साबित होती है या नहीं ,यह  2 जुलाई को पता चल ही जायेगा।


फिल्म शेरशाह से जुड़ी खबरे और फोटो सोशल मीडिया पर आते रहते थे लेकिन अब ऑफिशियल तौर पर फिल्म शेरशाह के बारे में एक्टर सिद्धार्थ मल्होत्रा और निर्माता करन जौहर ने अपने अपने सोशल मीडिया एकाउंट से पोस्टर शेयर करके दर्शकों के लिये फिल्म का बज़ बना दिया है।

शेरशाह कैप्टन विक्रम बत्रा के बारे में जानिये


7 जुलाई 1999 को 4875 चोटी पर तिरंगा फहर गया लेकिन शेरशाह(कैप्टन विक्रम बत्रा) शहीद हो गये।


यूं तो कारगिल में भारत के रणवांकुरों ने बहादुरी की नई परिभाषाये लिखी पर कैप्टन विक्रम बत्रा के खौफ से ही दुश्मनों को हार जाने का खतरा लगने लगता था।

कैप्टन बत्रा ने जिस जिस चोटी पर तिरंगा लहराया वहां बहादुरी की एक नई इबारत लिख दी। उनका विजयी उदघोष था 'Ye Dil Maange More"

7 जुलाई 1999 को 4875 चोटी पर तिरंगा फहर गया लेकिन शेरशाह(कैप्टन विक्रम बत्रा) शहीद हो गये।
 

Post a Comment

0 Comments

Close Menu