ads

TATA की कारों पर बढ़ता लोगों का विश्वास ।

 

TATA की कारों पर बढ़ता लोगों का विश्वास ।

New Delhi: भारत में कार खरीदने की सोचने वाले अधिकतर लोग अब माइलेज पर कम और सुरक्षा पर ज्यादा ध्यान देने लगे हैं। इस वजह से TATA की गाड़ियों पर लोगों का विश्वास बढ़ा है। टाटा को लेकर एक बात बहुत कही जाती है कि टाटा की प्लास्टिक भी तीसरे दर्जे के लोहे को टक्कर देती है। 

भारत में 90s के दौर में लोगों के लिये मारुती की गाड़ियों का क्रेज था जो आज भी जारी है लेकिन अब लोगों ने सुरक्षा को अपनी कार के लिये पहले पायदान पर रखा है। जिस वजह से 4 पहिया वाहनों में एकछत्र राज करने वाली मारुती में अब सेंध लग चुकी है। Ford, Mahindra, Toyota, और Tata जैसी कंपनियो ने माइलेज, लुक के साथ-साथ सुरक्षित गाड़िया बाजार में उतार दी हैं।

अब लोग इन्ही गाड़ियों को अपनी पहली पसंद के तौर पर रख रहे हैं। बजट कम होने की वजह से लोगों को अपनी सुरक्षा वाली प्राथमिकता को छोड़कर माइलेज कार को प्राथमिकता के लिये चुनना पड़ता है। ऐसे में Maruti Suzuki की गाड़ियां उनकी पसंद बन जाती हैं।

TATA ही क्यों?  

TATA

दरअसल यह 100 प्रतिशत सही नहीं है कि लोग सिर्फ TATA की कारों को ही अपनी सुरक्षित कार के रुप में देखते हैं बल्कि दूसरी कंपनी की गाड़ियां भी उनकी पंसद होती हैं औऱ उन्हे खरीदा भी जाता है।

लेकिन पिछले कुछ सालों में TATA ने अपने कार के कॉन्सेप्ट पर जो काम किया है उसका ही नतीजा है कि लोग TATA को भी पहले से ज्यादा पसंद करने लगे हैं।

 कार के डिजाइन की बात हो, माइलेज की बात हो, सेफ्टी फीचर की बात हो , या कीमत की बात हो TATA की गाड़ियों ने दूसरी कंपनियों के लिये मारकेट टफ बना दिया है।


Post a Comment

0 Comments

Close Menu