ads

भारत ने जीती बार्डर-गावस्कर टेस्ट सीरीज।

 

New Delhi: 327 रनों के लक्ष्य का पीछा कर रही भारतीय टीम शानदार जीत के साथ सीरीज जीत गई, इसका क्रिकेट के जानकारों को अंदेशा भी नहीं था। क्रिकेट एक्सपर्ट इस आखिरी मैच के परिणाम को ड्रा को रुप में देख रहे थे लेकिन शुभमन गिल, चेतेश्वर पुजारा, ऋषभ पंत और वाशिंगटन सुंदर ने शानदार बल्लेबाजी करके रिकार्ड जीत अपने नाम कर ली।


भारत ने जीती बार्डर-गावस्कर टेस्ट सीरीज।

भारत ने टेस्ट सीरीज 2-1 से जीत ली है। इससे पहले एकदिवसीय मैच की सीरीज भी 2-1 से भारत ने अपने नाम की थी। भारत का ऑस्ट्रेलिया दौरा 3 मैचों की टी-20 सीरीज से शुरु हुआ था और यह सीरीज ऑस्ट्रेलिया ने 2-1 से जीती थी लेकिन इसके बाद जो हुआ वो दशकों में एक बार होता है।

बार्डर-गावस्कर सीरीज का चौथा और आखिरी मैच ब्रिस्बेन में खेला गया जिसमें ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया और 10 विकेट के नुकसान पर 369 रन बना लिया। इस मैच में भारतीय गेंदबाजों ने ऑस्ट्रेलिया को ज्यादा बड़ा स्कोर बनाने से रोक दिया। जब भारत बल्लेबाजी करने आया, तब उसके 6 विकेट 186 रन पर गिर चुके थे। अब ऑस्ट्रेलिया गेदबाजी का सामना वाशिंगटन सुंदर और शार्दुल ठाकुर कर रहे थे। दोनो बल्लेबाजों ने 123 रन जोड़कर टीम का स्कोर 300 रन के पार पहुंचाया। वाशिंगटन सुंदर 62 औऱ शार्दुल ठाकुर 67 रन बनाकर आउट हुये औऱ भारतीय टीम 10 विकेट के नुकसान पर 329 रन तक पहुंच गई।

 

अब ऑस्ट्रेलिया के पास 37 रनों की बढ़त थी। इधर भारतीय गेदबाज ऑस्ट्रेलिया को कम रनों पर रोकना चाहते थे और लगभग ऐसा हुआ भी फिर भी ऑस्ट्रेलिया 327 रनों का लक्ष्य देने में कामयाब रही। दूसरी पारी में लक्ष्य का पीछा करने उतरी सलामी जोड़ी शुभमन गिल और रोहित शर्मा पर काफी उम्मीदे थी लेकिन जल्द ही रोहित 7 रन बनाकर आउट हो गये। बल्लेबाजी के लिये आये चेतेश्वर पुजारा ने संभलकर खेलना शुरु किया औऱ शुभमन गिल के साथ मिलकर साझेदारी शुरु कर दी। शुभमन गिल 91 रन बनाकर आउट हुये तब टीम का स्कोर 2 विकेट पर 132 रन था। अंजिक्य राहणे ने तेजी से रन बनाकर विपक्षी टीम को यह बता दिया कि मैच जीतने के लिये भारतीय टीम खेल रही है लेकिन इसी तेजी के चक्कर में राहणे आउट हो गये।

अब मैदान पर ऋषभ पंत आये औऱ उन्होने अपनी आक्रमक शैली में बल्लेबाजी जारी रखी। उधर पुजारा ने भी अपना अर्धशतक पूरा कर लिया। दोनों ने टीम का स्कोर 228 रन तक पहुंचा दिया औऱ इसी स्कोर पर पुजारा 56 रन पर आउट हो गये।

इस समय लगने लगा कि भारतीय टीम अब मैच को ड्रा कराने के लिये खेलेगी लेकिन वाशिंगटन सुंदर ने एक बार फिर जीत की उम्मीद को जगा दिया औऱ दोनों बल्लेबाजों ने 53 गंदों नें 50 रन जोड़ दिये। बस फिर क्या था भारतीय टीम जीत के दरवाजे पर खड़ी थी। वाशिंटन के आउट होने के बाद शार्दुल मैदान पर आये औऱ उन्होने भी जल्दबाजी में सुंदर की तरह अफना विकेट गवां दिया । अब टीम को जीत के लिये 3 रन चाहिये थे और 4 ओवर शेष थे, ऋषभ पंत ने इस जीत के लिये एक-एक रन लेने के बजाये चौका मारना मुनासिब समझा औऱ 2-1 से सीरीज को भारत के पक्ष में कर दिया।

Post a Comment

0 Comments

Close Menu